बना है शाह का मुशाहिब फिरे है इतराता
वगरना शहर में ग़ालिब कि आबरू क्या है

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है ?
तुम्ही खो कि ये अंदाजे-गुफ्तगू क्या है ?
न शोले में ये करिश्मा न बर्क में ये अदा
कोई बताओ कि वो शोखे-तुंद-ख़ू क्या है ?
रगों में दोड़ते-फिरने के हम नहीं काइल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है ?
वो चीज़ जिसके लिए हमको हो बहिश्त अज़ीज़
सिवाए वादा-ए-गुलफामे-मुश्कबू क्या है ?
पियू शराब अगर खुम भी देख लू दो चार
ये शीशा-ओ-कदह-ओ-कुजा-ओ-सुबू क्या है ?
रही न ताकते-गुफ्तार, और अगर हो भी
तो किस उम्मीद पे कहिये कि आरजू क्या है ?

मायने
करिश्मा=चमत्कार, बर्क=कटु स्वभाव का माशूक, खुम=मटके, शीशा-ओ-कदह-ओ-कुजा-ओ-सुबू=बोतल प्याले इत्यादि, ताकते-गुफ्तार=वाक़ शक्ति


banaa hai shah ka musahib fire hai itrata
vagrana shahar me ghalib ki aabru kya hai

har ek baat pe kahte ho tum ki tu kya hai ?
tumhi kaho ki ye andaje-guftgu kya hai ?
n shoule me ye karishma n bark me ye ada
koi batao ki wo shokhe0tund-khoo kya hai ?
rago me doudte-firne ke hum nahi kaail
jab aakh hi se n tapka to fir lahu kya hai ?
wo cheez jiske liae hamko ho bahisht azeez
siwae vada-e-gulfame-mushkbu kya hai ?
piyu sharab agar khum bhi dekh lu do chaar
ye sheesha-o-kadah-o-subu kya hai ?
rahi n taakte-guftaar, aur agar ho bhi
to kis ummid pe kahiye ki aazu kya hai ?

Mayne
karishma=chamtkar, bark= katu swbhav ka premi, khum=matke,sheesha-o-kadah-o-subu=boutal pyale etc, taakte-guftaar= waak shakti/ bolne ki shakti